How to Write an Essay Easy Way in Hindi

निबंध कैसे लिखें: निबंध लेखन या लेख किसी भी परीक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। साहित्यिक और कलात्मक विषयों में भी इसका महत्व बढ़ जाता है। निबंध न केवल परीक्षा की दृष्टि से उपयोगी होते हैं, बल्कि पढ़ने-लिखने वालों के ज्ञान में जबरदस्त वृद्धि होती है और गंभीर अध्ययन में रुचि जागृत होती है। यह लेखक के विचारों और भावनाओं का प्रकट रूप है और उनके व्यक्तित्व को प्रकाशित करने का अनूठा साधन है।

Related:

बोर्ड परीक्षा टिप्स और ट्रिक्स

पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे सेट करें

परीक्षा में टॉप कैसे करें

निबंध कैसे लिखें

अच्छे निबंध लिखने के लिए मुख्यतः निम्नलिखित दो बातों की आवश्यकता होती है-

Content:

निबंध लेखन में सामग्री अनिवार्य रूप से महत्वपूर्ण तत्व है। इस मुख्य तत्व के अभाव में न तो कोई लेख लिखा जा सकता है और न ही कोई निबंध। सामग्री एकत्र करना कोई साधारण कार्य नहीं है। इसके लिए कई चीजों के योग की आवश्यकता होती है। जिस दुनिया में हम रहते हैं, उसके बारे में हमें हर चीज का सूक्ष्म अवलोकन करना चाहिए। हमें विभिन्न स्थानों की यात्रा करने की भी आवश्यकता है क्योंकि हम किसी देश को लिए बिना किसी वस्तु की शुद्धता का वर्णन नहीं कर सकते हैं।

निबंध लिखने की मुख्य बात यह है कि हमें अलग-अलग चीजों पर और विशेष रूप से उस विषय पर गंभीर अध्ययन करना चाहिए जिस पर हमें निबंध लिखना है। हमारा शब्द भंडार विशाल और मेहनती होना चाहिए। हमें यह देखना चाहिए कि जिस विषय पर हमें निबंध लिखना है, वह उस विषय पर प्रसिद्ध विद्वानों के विचार हैं। अध्ययन के लिए हमें उच्च कोटि के लेखकों की पुस्तकों का चयन करना चाहिए। केवल अध्ययन से कल्याण नहीं हो सकता। अध्ययन के बाद ध्यान की परम आवश्यकता है।

जिस विषय पर आप लिखना चाहते हैं, उसके बारे में सोचें, ध्यान से सोचें और देखें कि इसमें तथ्य कहां हैं। निबंध – लेखन में अधिकांश सार अभ्यास है, अभ्यास के लिए निबंध लिखना रेत के थोक को उठाना है, अक्सर ऐसा देखा जाता है कि ऐसे छात्र जिनके पास विचारों या अध्ययन की कमी है, लेकिन कभी-कभी लिखते समय आकाश देखते हैं, तो कभी पृथ्वी। यद्यपि विश्व के प्रत्येक क्षेत्र में, विशेषकर लेखन में अभ्यास की बहुत आवश्यकता है, क्योंकि इसके बिना अभ्यास के लेखक एक कदम भी आगे नहीं बढ़ सकते।

Style:

शैली का अर्थ है ‘किसी भी कार्य को कैसे करें’ निबंध लिखने के लिए एक विशेष विधि की आवश्यकता होती है। निबंध लेखन में सुन्दर, अर्थपूर्ण शब्दों का प्रयोग करना चाहिए। वाक्य व्यवस्थित और सुव्यवस्थित होने चाहिए। इसके साथ ही वाक्य छोटे और सरल हैं। भाषा में ध्यान आकर्षित करने और प्रवाहित करने के लिए बीच में व्याख्या, मुहावरों और आभूषणों का प्रयोग करना चाहिए। यदि शब्दों के स्थान पर इसका प्रयोग किया जाए तो समानार्थक शब्द और भी उत्तम होते हैं। अन्य भाषाओं के शब्द, जो हिन्दी में प्रचलित हैं, प्रयोग में लाए जाने चाहिए; इससे भाषा की स्पष्टता बढ़ेगी। यही कहना है कि निबंध का सार सरल, शुद्ध, बोधगम्य और प्रभावोत्पादक होना चाहिए।

Part of the essay

 Start :

इस खंड को विषय का परिचय देना चाहिए। इस भाग में विषय, उसके व्यावहारिक, सामाजिक और राष्ट्रीय परिवेश, दैनिक जीवन से उसके संबंध आदि का वर्णन करें।

निबंध की शुरुआत भी आकर्षक और प्रभावोत्पादक होनी चाहिए, जो पाठक के हृदय में रुचि और जिज्ञासा उत्पन्न कर सके। निबंध का सार विषय और विषयों के बीच के अंतर से निकटता से संबंधित है। प्रस्तावना संक्षिप्त होनी चाहिए, लेकिन विषय से संबंधित कवि के शब्दों से अमूर्त ग्रंथ की शुरुआत; महत्व के विषय को परिभाषित करके, विषय को दिखाकर, या वर्तमान स्थिति और विषय के महत्व को दिखाकर।

Subject Matter :

विषय का सार मध्य भाग में वर्णित है। इस भाग में विषय से संबंधित विभिन्न तथ्यों का वर्णन किया जाना चाहिए। निश्चित रूप से पंक्तियों पर विस्तार से चर्चा की जानी चाहिए। निबंध में अनावश्यक और अवास्तविक बातों को स्थान नहीं देना चाहिए। इससे निबंध की क्लिच वृद्धि होती है, लेकिन विषय की निराशा में आने का भय बना रहता है।

Conclusion :

इसे निष्कर्ष भी कहते हैं। सभी निबंधों का सार अंत में है। निबंध की समाप्ति निम्नानुसार की जानी चाहिए; इस प्रकार, पाठक को ठीक-ठीक पता नहीं लगता कि यह कैसे हुआ, जिसका अर्थ है कि विषय सावधानीपूर्वक ध्वनि होना चाहिए। निबंध अपने आप में पूर्णतः स्वाभाविक और प्रभावशाली होना चाहिए ताकि पाठक के प्रति समस्त जिज्ञासा स्वतः ही समाप्त हो जाए।

Types of Essay 

Narrative essay

इन निबंधों में वस्तु के विवरण का विस्तार से वर्णन किया गया है। पाठकों का वर्णन करके ही वस्तु को प्रस्तुत करने का प्रयास किया गया है। इस प्रकार के निबंधों में प्राकृतिक और अप्राकृतिक दोनों प्रकार की वस्तुएं शामिल हैं। इस तरह के निबंध लेखन के लिए सूक्ष्म निरीक्षण और कुशल कल्पना की आवश्यकता होती है।

Descriptive essay  –

ये निबंध अतीत की घटनाओं, युद्ध की कहानियों, आत्मकथाओं, पौराणिक कहानियों आदि की घटनाएँ हैं। इस प्रकार के निबंध को क्रम पर अधिक ध्यान देना चाहिए। पूर्व में घटी घटना का वर्णन घटना के मध्य में किया जा चुका है, उसका वर्णन बीच में करना चाहिए और अंत में जो घटना घटी हो उसका वर्णन अंत में करना चाहिए। इस प्रकार के निबंध में इतिहास की कोई खामोशी नहीं होनी चाहिए। विवरण सरल और आकर्षक हैं ताकि पाठकों की निबंध पढ़ने में रुचि बनी रहे।

 Informative essay  –

इन निबंधों में विचार या बौद्धिक तत्व का भरपूर समावेश होता है। इनमें अक्सर आकारहीन समस्याएं शामिल होती हैं – तर्क व्याख्या शामिल है। लेखक किसी विषय पर अपनी राय व्यक्त करता है और उसे अपने तर्कों और दृष्टान्तों से प्रमाणित करता है। एक विश्लेषणात्मक निबंध लिखने के लिए, उचित ज्ञान और विषय को लिखने की क्षमता नितांत आवश्यक है। गंभीर अध्ययन और विचार के अभाव में प्रश्नवाचक निबंध नहीं लिखे जा सकते। ऐसे निबंधों की भाषा स्वतः ही कुछ कठिन और समझ से बाहर हो जाती है। फिर भी, लेखक को भाषा में प्रभावशीलता के साथ सरलता लाने का प्रयास करना चाहिए।

Emotional essay

यह एक विचारशील निबंध का एक रूप है जिसमें मनोचिकित्सा तर्क और तकनीक से परे है। इस प्रकार के निबंध कुछ सोचने और करने की प्रेरणा नहीं देते। उनके बारे में कुछ भी हो सकता है। इन निबंधों में निबंधकार लेखक भावों में डूब कर अपनी रचना स्वयं करते हैं।

काल्पनिक उपाख्यान:

इस प्रकार की लेखकता वास्तविकता के स्तर पर अधिक लिखी जाती है और कल्पना के स्तर पर अधिक लिखी जाती है। निबंध का विषय प्रायः कल्पनाशील होता है।

Related:

अपनी गलतियों से कैसे सीखें

छात्र के लिए मनोवैज्ञानिक अध्ययन तरीके

अपने आपको Motivate कैसे रखे?

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाये

सुबह जल्दी कैसे उठें

अध्ययन करनेके वैज्ञानिक तरीके किया है

Rate this {Do Not forget to give Rating}

Similar Posts