Psychological Study Tips for Student in Hindi

Psychological Study Tips for Student in Hindi: अच्छी पढ़ाई करने के कई तरीके होते हैं और हर छात्र के लिए अलग-अलग तरीके से सीखने का तरीका होता है। लेकिन जब तक छात्र यह नहीं समझते कि उनके लिए सबसे अच्छा तरीका क्या है, उन्होंने काफी कुछ तरीके अपनाए हैं.

जो उनके लिए कम कारगर साबित हुए। ऐसे कई तरीके हैं जिनसे अपेक्षित परिणाम नहीं देने वाले छात्रों के भीतर निराशा भरते हैं। साथ ही, छात्र उचित मार्गदर्शन की तलाश में रहते हैं क्योंकि उन्हें सही अध्ययन के लिए सही रणनीति नहीं मिल पाती है।

सही मार्गदर्शन न केवल छात्रों को अध्ययन करने का सर्वोत्तम तरीका बताता है, बल्कि छात्र मनोवैज्ञानिक रूप से प्रेरित भी होते हैं। अच्छे परिणाम के तरीके से छात्रों के मन में तनाव कम होता है और वे पढ़ाई में अच्छा परिणाम पाने के लिए हमेशा मेहनत करते हैं।

ऐसे अच्छे परिणामों के लिए, यहां वर्णित कुछ अध्ययनों के लिए, छात्रों को प्रभावी ढंग से अध्ययन करने में मदद करने के लिए कुछ मनोवैज्ञानिक दृष्टिकोणों का उपयोग किया जाएगा। प्रभावी ढंग से अध्ययन के लिए इन मनोवैज्ञानिक युक्तियों का पालन करता है।

Related:

बोर्ड परीक्षा टिप्स और ट्रिक्स

पढ़ाई के लिए टाइम टेबल कैसे सेट करें

परीक्षा में टॉप कैसे करें

निबंध कैसे लिखें

आप कितना जानते हैं?

जब वे किसी विषय को बेहतर ढंग से जानते हैं तो छात्रों के सीखने की अधिक संभावना होती है। जैसा कि छात्रों को अपनी पसंद के विषय को पढ़ना होता है, वे उन्हें पढ़ने और समझने का पूरा ध्यान रखते हैं.

क्योंकि उन्हें उस विषय को मनोवैज्ञानिक रूप से पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इस तरह के मनोवैज्ञानिक प्रोत्साहन से छात्रों की परीक्षा में भी परिणाम अच्छे होते हैं.

क्योंकि उनकी रुचि और अपने विषयों में ज्ञान से उनका आत्मविश्वास बढ़ता है। मान लीजिए छात्रों में विज्ञान में भौतिक विषय में अधिक रुझान है, तो उन्हें मनोवैज्ञानिक रूप से प्रोत्साहित करना और अच्छे अंक लाना स्वाभाविक है।

लगातार प्रयास करना महत्वपूर्ण है:

व्यायाम करने और करने का अभ्यास बहुत तीव्र है। इस कहावत का अर्थ यह है कि व्यक्ति में किसी भी चीज को अच्छी तरह से सीखने के लिए निरंतर अभ्यास की अनिवार्यता होती है। छात्रों को यदि अपने परिणामों में सुधार करना है, लगातार अध्ययन करना होगा, तो वे अपनी पढ़ाई से जुड़ी गलतियों को सुधारेंगे और अंत में उनका मनोबल बढ़ाएंगे जिससे उनकी पढ़ाई में अधिक रुचि होगी। पढ़ाई में अच्छे परिणाम पाने का यह सबसे अच्छा तरीका है।

खुद को अनुशासित करें:

अपनी पढ़ाई में अच्छे परिणाम पाने के लिए सबसे जरूरी है अपनी जीवनशैली में बदलाव लाना। इसके लिए छात्रों को अनुशासन को ठीक से अपनाने की जरूरत है। साथ ही पढ़ाई में रुकावट और ध्यान भटकाने वाली आदत को भी बंद करने की जरूरत है। इसके अलावा छात्रों को अपनी दिनचर्या में सुधार करना होगा, जैसे कि कक्षा में पढ़ते समय पूरा ध्यान देना, अपनी पढ़ाई को अनुशासित करने के लिए समय देना।

रचनात्मकता कौशल:

छात्रों के लिए उनका कौशल अध्ययन में बहुत लाभदायक है। ऐसा माना जाता है कि जो छात्र स्वयं रचनात्मक रूप से प्रभावित होते हैं, वे इस कौशल को हर विषय में ले जाते हैं। रचनात्मक कौशल वाले छात्र किसी भी विषय को आसानी से समझ सकते हैं क्योंकि उनमें ज्ञान से संबंधित, अनुकूलन क्षमता होती है और उनमें व्यावहारिक क्षमता होती है। यदि छात्रों में रचनात्मक कौशल की कमी है, तो उनके लिए ऐसी गतिविधियों में भाग लेना सही होगा ताकि उनका कौशल उभर सके और वे अध्ययन के लिए अपने नए कौशल का उपयोग कर सकें।

खुद को प्रेरित करते रहें:

सही अध्ययन का तरीका होने पर भी छात्रों को उतने अच्छे परिणाम नहीं मिलते हैं जितने उनमें आत्मविश्वास की कमी होती है या वे पढ़ाई के प्रति उतने उत्साही नहीं होते हैं। ऐसे में छात्रों को अपना मनोबल बढ़ाने की जरूरत है। ऐसा करने से उनका आत्मविश्वास बढ़ेगा और पढ़ाई के प्रति रुझान भी बढ़ेगा। आत्मविश्वास की कमी के कारण, छात्र अपनी पढ़ाई और यहां तक ​​कि निकालने वाली गतिविधियों में भी भाग नहीं लेते हैं। इसके लिए छात्रों को अपने लक्ष्य के लिए खुद को प्रेरित करना चाहिए।

शिक्षकों और आगंतुकों को प्रेरित करें:

कॉलेज लाइफ में छात्रों के लिए और अन्य गतिविधियों जैसे खेल, नाट्य/अभिनय, वाद-विवाद/भाषण में माता-पिता और शिक्षकों से अधिक मार्गदर्शन नहीं मिल सकता है। माता-पिता और शिक्षक दोनों ही छात्रों के कौशल और क्षमताओं से परिचित हैं ताकि वे छात्रों के लिए सही रास्ता अपना सकें। इसे समझते हुए विद्यार्थियों को जब भी कोई शंका या कठिनाई हो तो हमेशा अपने माता-पिता या शिक्षकों से प्रेरणा लेनी चाहिए।

अपने पारस्परिक कौशल में सुधार करें:

पारस्परिक कौशल यानी छात्रों में दूसरे व्यक्ति को अपनी भावनाओं या संदेहों को व्यक्त करने की क्षमता। छात्रों में पारस्परिक कौशल या समूह कौशल बहुत महत्वपूर्ण हैं ताकि वे अपने सहपाठियों, दोस्तों, शिक्षकों, माता-पिता या किसी अन्य व्यक्ति के साथ संवाद कर सकें। पढ़ाई में अच्छा करने के साथ-साथ वे अपनी शंकाओं और कठिनाइयों को दूर करने में भी मदद करेंगे।

नियमित प्रतिक्रिया लें:

मनोवैज्ञानिक तरीके से सबसे महत्वपूर्ण टिप समय-समय पर छात्रों के अध्ययन के लिए फीडबैक लेना है ताकि उन्हें अपनी अध्ययन करने की क्षमता का पूरा अंदाजा हो सके। इस फीडबैक का सही तरीके से उपयोग किया जा सकता है जैसे कि जिस विषय में उनके कम अंक हैं, लेकिन छात्रों को समझ में नहीं आता कि वे कहाँ छोड़ रहे हैं, ऐसे में शिक्षक या उत्तरदाता उनकी ठीक से समीक्षा कर सकते हैं और सही मार्गदर्शन कर सकते हैं। प्रतिक्रिया के रूप में प्रतिक्रिया दें।

यहां बताए गए टिप्स छात्रों के लिए मनोवैज्ञानिक तौर पर फायदेमंद साबित होंगे। इन 8 मनोवैज्ञानिक युक्तियों का न केवल अध्ययन में उपयोग किया जा सकता है, बल्कि ये युक्तियाँ अन्य गतिविधियों जैसे खेल, प्रायोगिक परियोजनाओं आदि के लिए भी लाभकारी होंगी।

Related:

अपनी गलतियों से कैसे सीखें

छात्र के लिए मनोवैज्ञानिक अध्ययन तरीके

अपने आपको Motivate कैसे रखे?

नकारात्मक सोच से छुटकारा कैसे पाये

सुबह जल्दी कैसे उठें

अध्ययन करनेके वैज्ञानिक तरीके किया है

Rate this {Do Not forget to give Rating}

Similar Posts