Meaning of Service in Hindi Features & Classification
67 / 100

Meaning of Service in Hindi: किसी भी Company में एक Product होता है. जिसको हम सेवा कहते हैं. सेवा को देखा नहीं जा सकता है. लेकिन महसूस किया जाता है। यह अदृश्य होता है।

जिसमें सिर्फ Satisfaction होती है, या Dissatisfaction होती है. किसी भी वस्तु के साथ सेवा का भी प्रयोग किया जाता है. इसी के चलते आज की पोस्ट में हम विस्तार से जानेंगे की सेवा क्या होता है.

किसी भी Business में Product के साथ सेवा का प्रयोग करना एक Opportunity होती है। की Product ज्यादा से ज्यादा Sale हो. क्योंकि लोगों को Product के साथ सेवा का आनंद लेना बहुत ही अच्छा लगता है। यदि सिर्फ Product बनाया जाए उसमें सेवा को नहीं जोड़ेंगे।

तो लोग उस Product में ज्यादा Internet नहीं दिखाएंगे। और उसकी sale भी ज्यादा नहीं होगी। इसलिए सेवा किसी भी वस्तु में उसकी Growth मैं बहुत ही ज्यादा सहयोग करता है.

सेवा की बहुत सारी परिभाषाएं होती है. जिसको अलग-अलग क्षेत्र में अलग-अलग तरीके से बयान किया जा सकता है। इसको हम Individual ,Business और Organization मैं अलग अलग तरीकों से Explain कर सकते हैं.

उदाहरण की बात करें तो जैसे Social Service, Hospital की Service ,Internet सेवा गाड़ियो की सर्विस सेवा आदि को ले सकते हैं. अब सेवा को Step By Step समझने की कोशिश करते हैं। जिसको मैं एक एक लाइन में बयान करूंगा।

Meaning of Service in Hindi

  • यह एक Activity है.
  • Service एक प्रकार की वस्तु है.
  • Service को Planning करके Design करके लोगों की आवश्यकता अनुसार दिया जाता है.
  • वस्तुको Satisfaction प्रदान करने के लिए किया जाता है.
  • यह आवश्यकता और उपयोग के आधार में संतुष्टि प्रदान करता है.
  • उपभोक्ता की आवश्यकता अनुसार सेवा वस्तु प्रदान किया जाता है.
  • यह अदृश्य होता है.

Customer Service

Customer Service Company को Support करने में मदद करता है. यह Business में इसको Free में Provide किया जाता है. क्योंकि इसकी मदद से कंपनी को अपने Product Sale करने में सहयोग मिलता है. यह वस्तु में Extra Facility Provide करता है. ताकि उपभोक्ता को वस्तु प्रति Believe हो. जैसे गाड़ी खरीदने के बाद हमें उसमें Free Service मिलती है। तो यह Customer के लिए सुविधा और Satisfaction दोनो होती हैं। किसी Business में Staff के लिए बस का प्रबंध होता है। तो वह उन लोगों के लिए सेवा होती है। ताकि उन्हें कंपनी से ज्यादा लगाव हो.

Service as a Product

इसको हम Product के रूप में प्रयोग करते हैं. यदि हमारा Business Down हो गया है .तो Customer को वस्तु के साथ नई नई Attraction सेवा प्रदान किया जाता है. यह Planning बनाकर Organization का Goal हासिल करने के लिए तैयार किया जाता है। कंपनी अपने Product की Sale बढ़ाने के लिए वस्तु के साथ विभिन्न सेवा ऐड किया जाता है. जिससे Customer को Product प्रति Satisfaction होती है. और वह उस Product को अपने दोस्तों परिवार के साथ Share करता है.

Service Features

इसके बारे में जानकारी लेने के बाद अब हम बात करेंगे इसकी विशेषताओं के बारे में. किसी चीज के बारे में यदि विस्तार से समझना है। तो उसकी विशेषताओं हमें ध्यान देना होगा। क्योंकि विशेषताएं ही उसके बारे में पूर्ण रूप से जानकारी देती हैं. तो चलिए शुरू करते हैं.

  • Intangibility
  • Variability
  • Inseparability

तो अब हम इन तीन विशेषताओं के बारे में चर्चा करेंगे। और विस्तार से अच्छी तरीके से समझेंगे।

Intangibility

Service Product नहीं है. क्योंकि इसको हम देख नहीं सकते हैं। छू नहीं सकते हैं, और Count नहीं कर सकते हैं. जब तक हम इसको प्राप्त नहीं कर लेते हैं. तब तक हमें इसका सुनाई, खुशबू, आदि नहीं आती है. इसको एक पक्ष देता है. दूसरा पक्ष लेता है।

उसके बाद सेवा समाप्त हो जाता है. उदाहरण के लिए जब हम Plan का Ticket खरीद लेते हैं. और उसके बाद हमें Airline हमसे यह वादा करते हैं. कि हमें हमारे Definition तक व्यवस्थित माहौल में हमें पहुंचाएंगे।

यह हमारे लिए Service है. जो हमारे Destination तक ही सीमित है. दूसरा Example Hotel सकते हैं. जब हम Hotel जाते हैं। तब हमें बहुत सारी सेवाएं प्राप्त होती हैं। और विभिन्न Facility प्राप्त होती हैं।

उसे सेवा कहते हैं जब तक Buyer सेवा प्राप्त कर नहीं लेता है। तब तक उसे सेवा का महसूस नहीं होता है। सेवा को देखा नहीं जाता है महसूस किया जाता है. इसलिए यह इसका एक महत्वपूर्ण विशेषता है.

Variability

प्रकृति अनुसार Service भी फरक फरक होती है। हर एक Buyer को हर एक समय में फरक फरक सेवा दी जाती है। इसमें यह नहीं कह सकते हैं. की सेवा कहां कब कैसे प्राप्त होगी।

इसको व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक भेजा जाता है। एक समय में सिर्फ एक व्यक्ति को इसका आनंद आता है। सेवा के बहुत सारी भिन्नता है।

  • Buyer Service को विभिन्न तरीके से विभिन्न समय में प्राप्त करता है
  • सेवा ग्राहक को Satisfaction देती है
  • Service की जो क्वालिटी होती है
  • वह अन नियंत्रण तत्वों में निर्धारित होती है

Inseparability

उपभोक्ता द्वारा उत्पादित, संग्रहीत, प्रदर्शित, दुकान में, बेचे और उपभोग किए जाने के मामले में। लेकिन अधिकांश सेवाओं को पहले उत्पादित और उपभोग की तुलना में एक साथ बेचा जाता है, इसलिए सेवा होने के लिए सेवा प्रदाता और उपभोक्ता को लेनदेन के लिए प्रस्तुत किया जाना चाहिए।

सेवा प्राप्तकर्ता और दाता के बीच बातचीत के दौरान उत्पन्न होती है। इसलिए Receiver सेवा का सह-निर्माता है। बातचीत का स्तर अनुभव की Quality निर्धारित करता है।

इस तरह, कर्मचारी और ग्राहकों को प्रबंधित करने के लिए सेवा प्रबंधक की आवश्यकता होती है, ग्राहक संबंध ग्राहक और पर्यावरण संबंध का अनुसरण करता है।

Classification of Service

Service को देखा नहीं जाता है। और यह Product नहीं है। फिर भी इसको विभाजन कर सकते हैं। कई लोगों को ऐसा लगेगा कि क्या सेवा को भी विभाजन किया जाता है। तो इसी के बारे में हम जानेंगे।

जैसे किसी वस्तु को दुकान में सजाकर Sale करने के लिए रखा जाता है. इसी तरीके से Service को अनुभूति करके एक से ज्यादा तरीकों से विभाजन किया गया है. यह प्राप्तकर्ता को अनुभव करने के लिए दिया जाता है।

प्राप्तकर्ता प्रत्येक समय में विभिन्न तरीकों से सेवा प्राप्त करते हैं. इसको वस्तु की तरह हम देख नहीं सकते हैं. लेकिन प्राप्त करने के बाद महसूस कर सकते हैं.Indian Government के अनुसार सेवा को 15 किसिम से विभाजन किया गया है. उनमें से कुछ महत्वपूर्ण भाग उल्लेख किए गए हैं. आप पढ़ सकते हो.

Professional Service

इसको हम कानूनी सेवा भी कह सकते हैं. जैसे Accounting Service, Engineering Service, Medical Service, Consultancy Service आदि.

Technology Service

Technology service under computer, radio, television आदि सर्विस और रिपेयर मेंटेनेंस को ले सकते हैं।

Research and Development

इसके अंदर Research Center Research Institutionआदि आते हैं।

Real Estate Service

यहां जमीन का कारोबार बिक्री वितरण सेवा आते हैं।

Commission Agency

यह agency service provide करवाते हैं. जहां खरीद और बिक्री दोनों होती हैं।

Consultancy Service

परामर्श सेवा अंतर्गत व्यवस्थापन बाजारीकरण सेवा आते हैं.

Communication

इसके अंदर हम Television, FM आदि को ले सकते हैं।

Hospital Service

इसके अंदर Hospital की सेवाएं मेडिकल सेवाएं आदि आते हैं.

Frequently asked questions

वस्तु सेवा क्या होती है?

किसी भी नए वस्तु के साथ मिलने वाली Service को वस्तु सेवा कहते हैं. जैसे नई Motorcycle खरीदने के बाद उस में मिलने वाली free service को वस्तु सेवा कह सकते हैं.

सेवा का अर्थ क्या होता है?

सेवा एक अदृश्य वस्तु है. जिसको हस्तांतरण नहीं किया जा सकता है। इसको प्राप्त करने वाला पक्षी सिर्फ Satisfaction हो सकता है। लंबे समय तक नहीं अपने साथ रख सकता है। यह एक बार प्राप्त होने के बाद अपने आप समाप्त हो जाती है.

वस्तु सेवा हमें क्यों मिलती है?

वस्तु सेवा मिलने का मुख्य कारण होता है. कि हम वस्तु के तरफ आकर्षण हो। और उस वस्तु को खरीदें और अपने साथी संबंधों को भी खरीदने के लिए उत्साहित करें।

Conclusion

तो दोस्तों आप मुझे बताइए कि आपने Service के बारे में क्या सीखा। इस पोस्ट में मैंने आपको सेवा की व्याख्या करके बताया है. इस लेख का मुख्य उद्देश्य की वस्तु सेवा क्या होती है ?

इसकी क्या विशेषताएं होती हैं. उसके बारे में मैंने आपको जानकारी दी। पोस्ट की जानकारी कैसी लगी कमेंट करके जरूर बताएं। और अपने दोस्तों के साथ जरूर Share करें। धन्यवाद

Rate this {Do Not forget to give Rating}

Similar Posts